काशी में शिवालय

पौराणिक सूत्रों के अनुसार काशी में लगभग 511 शिवालय प्रतिष्ठित थे। इनमें से 12 स्वयंभू शिवलिंग, 46 देवताओं द्वारा स्थांपित, 47 ऋषियों द्वारा स्थापित, 7 ग्रहों द्वारा स्थापित, 40 गणों द्वारा तथा 294 अन्य‍ श्रेष्ठ शिवभक्तों द्वारा स्थारपित एवं सुपूजित हुए। श्री विश्वेश्वर के सान्निध्य हेतु अन्य शैवतीर्थों से भी लगभग 64-65 शिवरूप काशी पधारे। इनमें से ही एक ओंकारेश्वर का स्वयंभूलिंग माना जाता है। उपर्युक्त शिवालयों, लिंगों के अतिरिक्त भी सहस्राधिक शिवस्थान लिंग आदि काशी में हैं, उन सबका उल्लेख करना यहाँ सम्भव नहीं है। कहीं-कहीं तो उनकी संख्या इतनी सघन है कि गणना करना भी अत्यन्त कठिन है। इनमें से अधिकांश नष्ट- हो गए और कुछ का अस्तित्व ही समाप्त हो गया। आज भी अनेक शिवायतन या अन्य‍ मन्दिर विग्रह तीर्थ कूप आदि लोगों के घरों में हैं। कुछ का पता चलता भी है और कुछ का नहीं।